अनकही बातें

मैं जो रूठी ,
तुम भी रूठे ,
सोंचो फिर एक दूसरे को मनाएगा कौन ?

आज की दरार ,
कल खाई होगी,
सोंचो फिर इसे इसे पाट पायेगा कौन ?

मैं रहूं चुप ,
तुम भी रहो चुप ,
फिर बातों का सिलसिला बढ़ाएगा कौन ?

छोटी बातें जब ,दिल पर लगेंगी
तो इस रिश्ते को फिर निभाएगा कौन?

न मैं राजी,
न तुम राजी,
फिर तुम सोंचो एक दूसरे को मनाएगा कौन ?

एक अहम् मेरे पास ,
एक तेरे भीतर भी,
फिर हममें से इसे हराएगा कौन ?

ज़िंदगी रुकती ही कहाँ है ,
फिर गुजरते वक़्त के ,
साथ अकेला रह जायेगा कौन?

दोनों में से ,
किसीने ,बीच रास्ते ,
में कह दिया अगर अलविदा ,
कल इस बात पर फिर
पछतायेगा कौन ?

photo of tattooed woman leaning on bricked wall
Photo by Marcelo Dias on Pexels.com

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s