असर

असर मुझपर अभी तक तेरे इश्क़ का है ,
होश में आ जाने दो , बात करता हूँ |

अभी हंसी मेरी बड़ी बेबाक सी है ,
नमी इसमें ,घुल जाने दो ,बात करता हूँ |

तुम कहते हो तुममें दिल बनके धड़कने लगा हूँ मैं ,
सांसे बनके उतर जाने दो ,बात करता हूँ !

बड़े चरचे हैं शहर में इश्क़ के कई अफ़सानो के ,
नाम अपना भी आ जाने दो ,बात करता हूँ !

कहते है वक़्त बदल देता है सबके तेवर ,
उसे भी आजमाने दो ,बात करता हूँ |

यह सच है खाक हो गया हूँ तेरे इश्क़ में मैं लगभग ,
राख़ बन जाने दो ,बात करता हूँ |

–अमृता श्री

 

Romantic-couple-tenderly-holding-hands-outdoors-656189652_3869x2579-compressor

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s