मिल लेना तुंम खुद से उस दिन !

जब आंख जले ख्वाबों से और राहत बैचनीयों में मिले ,
“श्री” फिर मिल लेना तुंम खुद से उस दिन !

जब घनघोर अँधेरा छाया हो ,हाथ को हाथ नजर न आया हो ,
ऐसे में जब चुपके से कोई दीप आस का जल जाये ,
“श्री” फिर मिल लेना तुंम खुद से उस दिन !

किसीने जब तुमपर शब्दों का बाण चलाया हों, मन आहत हो ,घबराया हो !
ऐसे में जब कोई भुला हुआ गीत लबों पर आ जाये !
“श्री” फिर मिल लेना तुंम खुद से उस दिन !

–अमृता श्री 44136706_10209675294237907_2522017990350733312_n

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s