वो पिता है दोस्तों, क्या वो शब्दों में सिमटता है ?

कई बार झिड़कता है ,
बिन बात बिफरता है ,
वो पिता है ,शायद
जमाने से डरता है |
वो पिता है दोस्तों, क्या वो शब्दों में सिमटता है ?
सबके ख्वाबों का भार ,
खुद पर लेकर
एक एक पैसे का हिसाब रखता है ,
बनियान अगले महीने ले लूंगा अपनी ,
कमीज़ के अंदर से वैसे भी कहाँ दिखता है ?
वो पिता है दोस्तों, क्या वो शब्दों में सिमटता है ?

उससे रसोई है,राशन है ,
घर में एक अनुशासन है !
कभी बातें मीठी लगे उसकी
कभी लगे कोई भाषण है |
पर सच कहूं यारों , सब खरा खरा ही कहता है ,
वो पिता है दोस्तों, क्या वो शब्दों में सिमटता है ?
उससे आश्वासन है ,आस है ,
जीवन में लगे कुछ खास है ,
हंसकर वो मिश्री घोलता है ,
शब्द तौल तौल कर वो बोलता है |
वो पिता है दोस्तों, क्या वो शब्दों में सिमटता है ?

अकेलेपन में कई डरों से वो लड़ता है ,
घर की चिंता में कई बार  बिखरता है ,
अगली सुबह फिर वही सबको ,
किसी नायक सा,शांत मिलता है |
वो पिता है दोस्तों, क्या वो शब्दों में सिमटता है ?

–अमृता श्री 

love people cute young
Photo by Public Domain Pictures on Pexels.com
Advertisements

1 Comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s