मुहब्बत अनजानी सी !

हमसे हमारे होने का जबाव मांगते हो ,
सांसों का यह कैसा हिसाब मांगते हो ?

मुहब्बत  दौड़ती रही रगों में खून की जगह ,
और तुम हो कि उसपर लगाम मांगते हो ?

जिंदगी गुजार दी बस तेरे नाम पर हमने ,

और आज भी तुम इस रिश्ते  पर हिज़ाब मांगते हो ?

आँखों ने मेरी जिनको सहेजे रखा था अब तक ,
तुम क्यों मेरी आँखों से वो ख़्वाब मांगते हो ?

By अमृता श्री

portrait photo of woman covering her mouth with brown scarf
Photo by Deden Ramdhani on Pexels.com
Advertisements

3 Comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s