चाँद और दुल्हन : करवा चौथ स्पेशल

सुनो न ,
वो जो नज़रें तेरी ,
जिसे ढूंढ रही है ,
वो बादलों के पीछे ,
छिपा है ,
जान लो न तुम !

सुनो न ,
लाख शिकायते कर रही हो ,
मनुहार कर उससे लड़ रही हो ,
वो बादलों के पीछे ,
अड़ा है ,
मान लो तुम !

और वो हो भी क्यों ना ,
बादलों के पीछे ?
सोचो न क्यों तेरी
हर फरियाद से ,
है वो आंखे मींचे !
कुछ तो कहो ना ?

मौन हो तुम ,
छोड़ दो आज मैं ही बताता हूँ ,
हमसफ़र हूँ तुम्हारा
राज़ की बात खुद तक ,
मैं भी कहाँ रख भी पाता हूँ ?
सुनो न ,

मान लो तुम ,
बैर रखता है तुमसे थोड़ा
और फिर घबड़ा भी गया है |
रूप की तेरी रोशनी से ,
बस सकुचा गया है |
तुझमे जो भोलापन है ,
जो सादगी है ,
जल्द वो भी जान जायेगा ,
करवा चौथ का दिन हैं जानम ,
वो भी सामने आएगा ,
मान जायेगा ,

मान लो तुम !
-अमृता श्री

karwa-chauth-2019-1570698714

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s