ख़ामोश अकेले जलते क्यों हो ?

 

ख़ामोश अकेले जलते क्यों हो ? ए दीपक खुद को छलते क्यों हो ?

छाया है घनघोर अँधेरा ,

लोग कर रहें तेरा -मेरा ,

                               ला पाओगे क्या नया सवेरा ?

तिल -तिल कर फिर तुम  मरते क्यों हो ?

                                ए दीपक खुद को छलते क्यों हो ?

जीवन की इस भागदौड़ से

               जब थक गया आज मन मेरा ,

            याद आ गया निर्भय जलना तेरा ,

 आज समझ में आया  मुझको ,

रोशनी सब में तुम भरते क्यों हो !

                                           निर्भय तम से भिड़ते क्यों हो !

लाख मुश्किलें हो जीवन में ,

                    हार नहीं अब मैं मानूँगी,

                       तुमको अपना गुरु मानकर जीवन पथ पर बढ़ जाउंगी !

          शायद रोशनी छोटी हो मेरी ,थोड़ा तम तो हर जाउंगी ….

                                                                                     -अमृता श्री

diwali-festival-2774749_960_720

Advertisements

3 Comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s