बेफिक्र

उसकी यादों को हमने ज़हन में समेटे रखा ,
वो खुशबू की तरह मुझमे बिखरता चला गया !

उसके लबों पर नाम किसी रकीब का था “श्री ” ,
जानकर मैं भी फिर खुद में सिमटता चला गया !

उसकी हर बात ने हर बार किये टुकड़े मेरे हज़ार ,
और बेफिक्र वो ,अपने किस्से सुनाता चला गया !

उसे भूलने की कोशिश नाकाम हुई हर बार,
यादें उसकी जो पिघली वो हर शै में घुलता चला गया!

हर रिश्ते को बावफ़ा निभाया हमने ,
और वक़्त था कि मुझे ही आजमाता चला गया !
-अमृता श्री

photo of couple walking on road near bare trees
Photo by Radu Florin on Pexels.com
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s