बेमुरव्वत

हाँ ,एक बेमुरव्वत ख़्वाब हूँ मैं ,
कांच सा हूँ ,चुभता ही जाऊंगा  !

मुझमे खुद को ना तलाशना कभी ,
आईना हूँ तुमसे  सच बोल जाऊंगा  !

धागों की जद में न ठहरा हूँ कभी ,
पैरहन हूँ मैं शिकस्ता, टिक ना पाउँगा  !

तेरी ज़ुल्फ़ों की कैद में रहूं , मैं क्यूँकर ?
वक़्त सा हूँ ,मुट्ठियों से फिसल जाऊंगा !
-अमृता श्री

* कठिन शब्द

पैरहन -कपड़ा

शिकस्ता-फटा   हुआ

silhouette of woman leaning on metal railings with background of body of water by the shoreline
Photo by Heiner on Pexels.com

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s