परेशां हूँ …..

परेशां हूँ ,
लत तेरी, जो लगी है ,
छूटती क्यों नहीं
मुझसे ?
हैरान हूँ ,
बातें जो तेरी हैं ,
भूलती क्यों नहीं
मुझसे ?
परेशां हूँ !
अकेले में जब ,
हवा का झोंका ,
छू मुझे जाता है ,
ख्यालों से निकलकर तू ,
फिर मेरे सामने आ जाता है !
यादें तेरी ,जो आती-जाती हैं , ऊबती क्यों नहीं मुझसे ?
लत तेरी, जो लगी है ,छूटती क्यों नहीं मुझसे ?
बातें जो तेरी हैं ,भूलती क्यों नहीं मुझसे ?
परेशां हूँ !
बांध कर कोने में उन्हें , खड़ा करके भी देखा है ,
बड़ी आंखे करके इनको डरा करके भी देखा है ,
ख़ामोशी इनकी मुझे सच मानो ज्यादा तड़पाती हैं ,
शायद चुपके से ये मेरा सूनापन भरने आती हैं!
इन यादों से लगता है, सांसे मेरी चलती है ,
मुझमे यह जिन्दा रहती है ,मुझमे ही यह मरती हैं !
लेन -देन की यह बही संभलती क्यों नहीं मुझसे ?
हैरान हूँ ……
लत तेरी, जो लगी है ,छूटती क्यों नहीं मुझसे ?
बातें जो तेरी हैं ,भूलती क्यों नहीं मुझसे ?
परेशां हूँ !
-अमृता श्री
images (3)

1 Comment

  1. इस कश्मकश में तो सारी दुनिया परेशान है, अमृता जी
    और इस परेशानी से दो चार हुए बिना जिंदगी भी तो संभव नहीं

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s